Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

योगशास्त्र

*योग शास्त्र की भूमिका* योग का वर्णन वेदों में, फिर उपनिषदों में और फिर गीता में मिलता है, लेकिन *पतंजलि* और *गुरु गोरखनाथ* ने योग के बिखरे हुए ज्ञान को व्यवस्थित रूप से लिपिबद्ध किया। योग हिन्दू धर्म के छह

नाग स्तोत्र सर्प सूक्त

॥ नाग स्तोत्रम् ॥ ज्यांना जीवनात अनेक अडचणी सतत येतात , जन्मपत्रिके नुसार राहू – केतू – नाग दोष – सर्प दोष इत्यादी प्रकारचे अशुभ दोष असतील , ज्यांना सतत सर्प वैगेरे भीतीदायक स्वप्न पडत असेल त्यानी हे स्तोत्र नेहमी

धनदा लक्ष्मी स्तोत्र

धनदा लक्ष्मी स्तोत्र या स्तोत्राच्या नित्य पठणाने दारिद्र्य – दुःख – चिंता – व्याधी व ऋण ( कर्ज ) यांचा नाश होऊन श्रीमहालक्ष्मी ची कृपा प्राप्त होते .. देवी देवमुपागम्य नीलकण्ठं मम प्रियम्। कृपया पार्वती प्राह शंकरं करुणाकरम् ॥१॥ ॥देव्युवाच॥

Don`t copy text!